गुरुवार, 5 जुलाई 2012

आपके लिए...



                         बचपन से मेरी एक आदत रही है कि जहाँ कही भी मुझे ऐसी पंक्तियाँ या विचार दिखाई देते थे, जिनसे मुझे प्रेरणा मिलती थी, तो मै उन्हें अपनी डायरी में लिख लेती थी...इन विचारों ने मेरे व्यक्तित्व निर्माण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई... अचानक ख्याल आया कि इन विचारों को अपनी डायरी तक ही क्यों सीमित रखूँ ? अच्छी बातें तो खुशबू की तरह सारे संसार में फैलनी चाहिए... हो सकता है ये किसी टूटे दिल का सहारा बन सकें, किसी टूटी आस का संबल बन सकें... शुरुआत करती हूँ 'हरिवंश राय बच्चन' की इन दो पंक्तियों से कि,
                                             "आपके मन का हो तो अच्छा,
                                             अगर ना हो तो और भी अच्छा...! "
                         अब आप कहेंगे
कि ये क्या बात हुयी, तो मै बता दूँ कि इसका आशय ये है कि आपके मन का जो नहीं होता, वो ईश्वर के मन का होता है... ईश्वर से बेहतर हमारे लिए कौन सोच सकता है, आखिर हम उसी की संतान हैं... भला अपनी संतान का बुरा कौन चाहेगा ? ईश्वर द्वारा किये गए प्रत्येक कर्म का उद्देश्य श्रेष्ठ होता है... बस हमें ही समझने में थोडा वक्त लग जाता है... ईश्वर के प्रति आस्था को दर्शाती और दिल को छू लेने वाली ये ४ पंक्तियाँ प्रस्तुत हैं...
                                            " सहज किनारा मिल जायेगा
                                               परम सहारा मिल जायेगा..
                                              डोरी सौंप के तो देख इक बार
                                                उदासी मन काहे को करे....."

                                                                                 शुभकामनाओं सहित
                                                                                          गायत्री

2 टिप्‍पणियां:

  1. क्‍या बात है ... अच्‍छे विचार मुझे भी बहुत भाते हैं ... संकलन कर लिखने की आदत भी है ... और ब्‍लॉगजगत में आने पर सद़विचार के नाम से ब्‍लॉग बनाया ... उन विचारों को जब सबसे साझा करती हूँ तो बेहद सुकून मिलता है ... आपके लिए अनंत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...